Tuesday, August 17, 2010

ओ दिल बंजारे जा ऱे...mayamemsahab



ओ  दिल बंजारे जा ऱे  
खोल डोरियाँ सब खोल दे
ओ दिल बंजारे ....जा ऱे
धुप से छनती छाँव आँख में भरना चाहूँ
आँख से छनते सपने होंठ से चखना चाहूँ  
ये मन संसारी
बोले इक बारी अब डोल दे....
ओ दिल बंजारे जा ऱे
खोल डोरियाँ सब खोल दे

 







1 comment:

इमरान अंसारी said...

gulzaar sahab ek behatrin shyar hain, isme koi shaq nahi....mujhe unki nazme bahut achhi lagti hain.