Monday, January 24, 2011

दोपहर होने को आई




आकाश इतना छोटा तो नही

और इतना थोड़ा भी नही .

सारी ज़मीन ढांप ली साहिब

मेरा इतना सा आँगन

क्यूँ नही ढांप ले सकता ..

दोपहर होने को आई

और इक आरज़ू

धूप से भरे आँगन में

छाँव के छीटे फेंकती है

और कहती है

ये आँगन मेरा नही ..

यहाँ तो बस

पाँव रखने को छाँव चाहिए मुझे ..

ये घर भी मेरा नही

मुझे उस घर जाना है

जिस घर मेरा आसमान रहता है .

.मेरा आकाश बसता है !

7 comments:

Mithilesh dubey said...

सुंदर अभिव्यक्ति लगी , बढिया रचना के बधाई ।

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

प्रभावी अभिव्यक्ति ....

Patali-The-Village said...

बहुत सुन्दर रचना| धन्यवाद|

venus****"ज़ोया" said...

aap sab ko yahaan tak aane aur gulzaar ji ke is beshkimati nazraane ko saraahne ke liye tah e dil se shukriya
take care

आशीष मिश्रा said...

सुंदर अभिव्यक्ति

RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA said...

अब सभी ब्लागों का लेखा जोखा BLOG WORLD.COM पर आरम्भ हो
चुका है । यदि आपका ब्लाग अभी तक नही जुङा । तो कृपया ब्लाग एड्रेस
या URL और ब्लाग का नाम कमेट में पोस्ट करें ।
http://blogworld-rajeev.blogspot.com
SEARCHOFTRUTH-RAJEEV.blogspot.com

RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA said...

एक बेहतरीन रचना ।
काबिले तारीफ़ शव्द संयोजन ।
बेहतरीन अनूठी कल्पना भावाव्यक्ति ।